ईंट का व्यापार करने वालों को बड़ा झटका, अब नहीं मिलेगा लाल ईंट का लाइसेंस, फ्लाई ऐश ईंट का करें बिज़नेस

घर बनाने के लिए सबसे पहले आवश्यकता ईटों की पड़ती है, लेकिन देखा जाता है कि लाल ईंटों का व्यापार प्रदूषण और पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहा है। इसके चलते अब बिहार में नीतीश सरकार में लाल ईंट बनाने वाली चिमनियों को लाइसेंस नहीं देने की घोषणा कर दी है। इस समय देखा जाता है की ईंटों का व्यवसाय अधिक फैला हुआ है जिसकी वजह से युवाओं को कई रोजगार मिल रहे हैं, लेकिन और सरकार की तरफ से इस तरह के आदेश के बाद भारी नुकसान झेलना पड़ेगा। वहीं इस निवेश से कई निवेशक कुछ ही सालों में करोड़पति बन गए हैं।

google news

नए साल में ईंट भट्ठों को नहीं मिलेगा लाइसेंस

दरअसल देखा जाता है कि देश में प्रदूषण और पर्यावरण की समस्या अधिक बनी हुई है। इससे छुटकारा पाने के लिए अब सरकार की तरफ से एक तरफ जहां 10 से 15 साल पुरानी गाड़ियों को नष्ट करने के निर्देश दिए हैं। अगर इन गाड़ियों का कोई इस्तेमाल करते पाया जाता है तो उसे जप्त कर वाहन चालक के खिलाफ जुर्माने की कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही अब बिहार की नीतीश सरकार ने लाल ईंट बनाने वाली चिमनियों को लाइसेंस नहीं देने की घोषणा कर दी है। पिछले महीने लाल ईंट भट्टों को अब लाइसेंस नहीं देने का फैसला किया है। नई व्यवस्था के अनुसार अब नए साल ईंट भट्ठों को लाइसेंस नहीं दिया जाएगा। पुराने लाल ईंट भट्टे पहले की तरह काम कर सकते हैं। एनटीपीसी के थर्मल पावर प्लांट के 300 किलोमीटर के दायरे में ईंट बनाने वाले कारोबारियों को सरकार खुद फ्लाई ऐश मुहैया कराएगी।

सरकार देगी इन्हें फ्री फ्लाई ऐश

इस मामले में बिहार के पर्यावरण वन और जलवायु परिवर्तन विभाग मंत्री नीरज कुमार सिंह ने जानकारी दी है। उनका कहना है कि 300 किलोमीटर के दायरे में ईंट बनाने वालों को फ्री फ्लाई दी जाएगी। केंद्र सरकार की गाइड लाइन के अनुसार ऐसा करना अनिवार्य है। कई एक व्यापारी फ्लाई ऐश नहीं मिलने की शिकायत कर रहे हैं। इसकी आपूर्ति को लेकर धांधली की शिकायत भी सामने आ रही है। अब सरकार इस पर लगाम लगाने की तैयारी में है।

ईंट पर कमा सकते है इतना मुनाफा

बता दें कि ईंट के इस बिजनेस से मैनुअल मशीनें 200000 में मिलने लगती है। अगर आप स्वचालित मशीनों की बात करें तो निवेश सस्ता पड़ता है। स्वचालित मशीन खरीदने के लिए 10—12 लाख रुपए का निवेश करना पड़ता है। ऑटोमेटिक मशीन 1 घंटे में 1008 बनाकर तैयार कर देती है। अगर बाजार में ईंट की कीमत की बात करें तो 4.5 रुपए से 5 रुपये प्रति ईंट है। ऐसे में 1 हजार ईंट पर 3500 रुपये से 4000 रुपये का मुनाफा कमा सकते हैं।

google news