अब नहीं बेच पायेंगे समोसा-पकौड़ी,चाट और गोलगप्पे, आपको लेना होगा लाइसेंस, नहीं तो होगी ये कार्रवाई

इस समय देखा जाता है कि सड़कों पर कई चाट, पकौड़ी के ठेले लगे रहते हैं। इसके साथ ही समोसे पानी पतासे वाले अपना ठेला लगाकर दो वक्त की रोटी कमाते हैं, लेकिन अब ऐसे लोगों की और परेशानी बढ़ने वाली सरकार की तरफ से अब एक बड़ा फैसला लिया जा रहा है। जिसके बाद गोलगप्पे, समोसा, पकौड़ी और चाट बेचने वालों को इसके लिए परमिशन लेना पड़ेगी। जिन लोगों के पास परमिशन नहीं होगी। वहां इसका व्यापार नहीं कर पाएंगे। महामारी के दौर में देखा गया था सबसे ज्यादा खाने पीने की चीजों की वजह से संक्रमण खेल रहा था यहां आने वाले लोगों का एक दूसरे से संपर्क हो रहा था जिससे कड़ी से कड़ी जुड़ती जा रही थी, लेकिन ऐसे में अब यह एक बड़ा फैसला लिया गया है।

google news

बिना लाइसेंस मिलेगी ये सजा

दरअसल एफएसएसएआई के द्वारा स्टेट फूड के विक्रेताओं को भी लाइसेंस लेना अनिवार्य कर दिया है जो व्यक्ति बिना फ्रूट के लाइसेंस देश का पाया जाता है तो उसके खिलाफ भारी जुर्माना वसूला जाएगा। इसके अलावा 6 महीने तक जेल में रहना पड़ सकता है। भारत में यह अब एक नई पहल शुरू हो रही है। जिसके अंतर्गत बिना लाइसेंस के अब कोई भी व्यक्ति खाद्य व्यंजन नहीं देख पाएंगे। ऐसा करने वालों पर जुर्माने और कारावास की कार्रवाई की जाएगी तो एफएसएसएआई के फूड प्रोडक्ट के प्रोडक्शन की स्टैंडर्ड वैल्यू भी निर्धारित कर दी गई है। जिसके बाद कौन से विभाग में बिना पंजीयन के चाट, पकौड़ी, समोसा चाय जैसी कई खाद्य सामग्री बेस्ट पाए जाते हैं तो इनके खिलाफ 500000 का जुर्माना और 6 महीने की जेल की सजा भुगतना पड़ेगी।

2 महीने में बनकर आ जायेगा लाइसेंस

यह नियम राशन डीलर, शराब विक्रेता पांच फल और सब्जी दुकानदार सब पर लागू होती है। बिना लाइसेंस के अब यह लोग खाने वाली चीजें का व्यापार नहीं कर पाएंगे। इसके लिए अगर कोई दुकानदार लाइसेंस बनवाना चाहता है तो उसके लिए एक बहुत ही सरल तरीका है। आवेदक को गवर्नमेंट की एक वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन का आवेदन करना होगा। जिसके बाद 2 महीने के अंदर लाइसेंस बनकर आपके पास आ जाएगा। एक खास बात और बता दें इससे बनवाने में आपको हर साल 100 रुपये का शुल्क देना होगा। यह पंजीकरण महज 5 साल की वैलिडिटी के साथ आएगा। इसमें अगर बिजनेस 1200000 रुपए से कम वार्षिक टर्नओवर करता है तो 100 रुपये शुल्क लगेगा। 1200000 रुपए से अधिक का टर्नओवर करता है तो ढाई से साढ़े 7 हजार रुपए का शुल्क भरना पड़ेगा।

इन दस्तावेज की पड़ेगी आवश्यकता

इस लाइसेंस को बनवाने के लिए दुकानदारों के पास पहचान प्रमाण पत्र, फोटो, पैन कार्ड एक पासपोर्ट साइज का फोटो, परिसर के कब्जे का प्रमाण, भूमि के कागजात या फिर किराए का समझौता साझेदारी विलेख के प्रमाण पत्र लेख आदि होना जरूरी है ।यह लाइसेंस ठेकेदारों देशी-विदेशी शराब, मेडिकल स्टोर, चाट, पकौड़ी, कचोरी, जलेबी चाय बेचने वाले सभी दुकानदारों के लिए मान्य होगा।

google news