MP: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने दिखाई हरी झंडी, इस योजना को मिली 840 करोड़ से अधिक की मंजूरी, इन जिलों को मिलेगा लाभ

केंद्र की मोदी सरकार के द्वारा कई तरह की योजनाएं चलाई जा रही हैं अब इसे धरातल पर लाने के लिए मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार भी कटिबध है। दरअसल मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार आगामी समय में होने वाले नगरी निकाय और पंचायत चुनाव से पहले जल मिशन योजना पर तेजी से काम कर रही है और इसे जल्द से जल्द हर घर हर शहर हर गांव तक इसे पहुंचाना है। इस योजना को 2024 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। इससे करीब 8 जिलों को लाभ मिलेगा जिसमें ग्वालियर, चंबल, उज्जैन, इंदौर, सागर, जबलपुर समेत कई जिले शामिल है। जिसमें अब तक 1508 करोड़ 16 लाख 60000 की मंजूरी मिल चुकी है। वहीं रीवा शहडोल के लिए 840 करोड़ 53 लाख 45 हजार रूपये स्वीकृत किए गए है। इसके तहत दोनो संभागों के 7 जिलों में 887 जल संरचनाओं के कार्य तेजी से चल रहा है।

इन जिलों में हो रहे इस योजना के कार्य

दरअसल मध्यप्रदेश के शिवराज सरकार के द्वारा जल मिशन योजना को लेकर लगातार काम किया जा रहा है। अगर जबलपुर संभाग की बात करें तो यहां 416 गांव में शत-प्रतिशत परिवारों को अभी तक इस योजना से लाभ मिला है। वहीं इसमें 1508 करोड़ 16 लाख 60000 रुपए की लागत से 2408 जल संरचनाओं के कार्य तेजी से जारी है। वहीं सिवनी में 315, बालाघाट 362, जबलपुर में 399, कटनी में 177, नरसिंहपुर में 336, डिंडोरी में 250, मंडला में 312, जल प्रदाय योजना के कार्य तेजी से संचालित हो रहे हैं। वहीं रीवा शहडोल के लिए 840 करोड़ 53 लाख 45 हजार रूपये स्वीकृत किए गए है। इसके तहत दोनो संभागों के 7 जिलों में 887 जल संरचनाओं के कार्य तेजी से चल रहा है।

2024 तक कार्य को पूरा करने का लक्ष्य

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार के द्वारा जल मिशन योजना से 2024 तक करीब मध्य प्रदेश के 4078 गांव के शत-प्रतिशत परिवारों को इस योजना से जोड़ना है, ताकि उन्हें शुद्ध जल मिल सके। वहीं इसमें अभी तक कई तरह की समस्या सामने आ रही थी जिसको लेकर भी सरकार के द्वारा कई तरह के प्रयास किए गए है।

मध्यप्रदेश में जल जीवन मिशन योजना ग्रामीण परिवारों को काफी लाभदायक साबित हो रही है। वहां इसका कार्य मध्यप्रदेश में तेजी से चल रहा है लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग और जल निगम द्वारा इसे 2024 तक पूरा करने का लक्ष्य है। इस योजना को लेकर मध्यप्रदेश में गति से कार्य किए जा रहे हैं। वहीं आसपास के ग्रामीण परिवारों को पेयजल प्रदाय किया जाएगा जहां जल स्रोत नहीं है वहां जल मिशन योजना से लाभ पहुंचाया जाएगा।