इस मामले को लेकर एक्शन में मुख्यमंत्री शिवराज, डीजीपी-कमिश्नर को जांच के दिए निर्देश

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इस समय भ्रष्टाचार के साथ ही लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ एक्शन में नजर आ रहे है। एक बार फिर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राष्ट्रीय विधिक संस्थान विद्यालय के मामले में बड़ा एक्शन लिया है। मुख्यमंत्री ने राजधानी भोपाल के डीजीपी और कमिश्नर को संबंधित शिक्षक के खिलाफ जांच कर कार्रवाई के निर्देश दिए गए है। इसके साथ ही उन्होंने एक महिला पुलिस अधिकारी को भी इस मामले में जांच करने के निर्देश दिए है। वहीं पीड़ितों ने प्रबंधन से जिलाधीश से पूरे मामले की जांच कराए जाने की मांग की है।

राष्ट्रीय विधि संस्थान विद्यालय के प्रोफेसर पर आरोप

दरअसल शुक्रवार को एनएलआईयू के छात्रों के संगठन ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात की और राजधानी भोपाल के राष्ट्रीय विधि संस्थान विद्यालय के प्रोफेसर तपन मोहंती के खिलाफ यौन शोषण का आरोप लगा रहा है। छात्रों की शिकायत सुनने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस मामले में तत्काल एक्शन लेते हुए डीजीपी और कमिश्नर को संबंधित शिक्षक के खिलाफ जांच कर कार्रवाई के निर्देश दिए है। बता दें कि 500 से अधिक विद्यार्थियों द्वारा प्रोफेसर मोहंती के कक्ष का घेराव किया था। इस मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सीएम आवास पर पुलिस प्रशासन के आला अधिकारियों की बैठक बुलाई और इस मामले में त्वरित कार्रवाई करने के निर्देश दिए है।

सीएम ने जांच के बाद कार्रवाई की कही बात

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भ्रष्टाचार और लापरवाही के खिलाफ हमेशा एक्शन में नजर आते हैं। इस बार उन्हें एनएलआईयू के छात्रों की शिकायत मिली है। इन्होंने तुरंत इस मामले में एक्शन लेते हुए जांच कर कार्रवाई के निर्देश दिए है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि छात्रों से दुर्व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आगे कहा कि इस मामले में सीबीआई और हाई कोर्ट के जस्टिस से चर्चा करूंगा।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि राजधानी भोपाल के राष्ट्रीय विधि संस्थान विश्वविद्यालय के प्रोफेसर तपन मोहंती के खिलाफ 500 से ज्यादा विद्यार्थियों ने यौन शोषण के साथ ही अश्लील वीडियो भेजने के गंभीर आरोप लगाए है। फिलहाल इस मामले में सीएम शिवराज ने पुलिस के आला अधिकारियों की बैठक बुलाई है और इस मामले में जांच कर कार्रवाई के निर्देश दिए है। बरहाल अब देखना यह होगा कि इस प्रोफ़ेसर पर किस तरह की कार्रवाई की जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.