शिवराज सरकार ने राशन हितग्राहियों के लिए बनाई योजना, नई व्यवस्था के तहत करना होगा ये काम, मिलेगा बड़ा लाभ

मध्य प्रदेश के राशन हितग्राहियों के लिए रविवार को बड़ी खबर सामने आई है। दरअसल मध्यप्रदेश में 1 करोड़ 11 लाख हितग्राहियों को मिलने वाले राशन वितरण में एक नई तैयारी की है। जिसके तहत अब इन हितग्राहियों को बिना घोटाले के पूरा राशन मिलेगा। यानी कि सरकार ने अब नई तैयारी की है जिसके तहत राशन हितग्राहियों को दो बार के सत्यापन की अवधि को पूरा करना होगा। राशन हितग्राहियों को हर महीने 1 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से गेहूं चावल और नमक मिलता है।

हितग्राहियों के लिए सरकार ने बनाई ये योजना

मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार के द्वारा गरीब तबके के लोगों को राहत देने के लिए कई तरह की योजनाएं चलाई जा रही है। इसमें एक योजना अन्न योजना भी है। जिसमें हर महीने मध्यप्रदेश में 1 करोड़ 11 लाख को राशन मिलता है। इन हितग्राहियों को सरकार की तरफ से 1 रुपये प्रति किलो की दर से गेहूं चावल और नमक का वितरण किया जाता है। इन हितग्राहियों के लिए शिवराज सरकार ने बड़ी तैयारी की जिसमें उन्हें दो बार के सत्यापन की अवधि को पूरा करना होगा।

दरअसल मध्य प्रदेश में राशन घोटाले के कई तरह के मामले सामने आ रहे हैं। बीते कुछ दिनों पहले भी कुछ मामले सामने आए थे जिसमें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के आदेश के बाद उन अधिकारियों कर्मचारियों पर कार्रवाई की गई है। ऐसे में अब गरीबों के हक का पूरा राशन उन्हें मिले और राशन मामले में किसी भी तरह की गड़बड़ी ना हो इसके लिए अब एक नया नियम बनाया गया है। जिसके तहत पॉइंट ऑफसेट मशीन के माध्यम से हितग्राहियों का सत्यापन करवाया जाएगा। जिसमें हितग्राहियों का अंगूठा लेकर राशन में होने वाली गड़बड़ी को रोका जा सकता है।

वहीं सरकार के द्वारा राशन में किसी भी तरह की गड़बड़ी ना हो इसके लिए हितग्राहियों को उनकी पात्रता के अनुसार आधार नंबर और उनको सॉफ्टवेयर के माध्यम से पीओएस मशीन से जोड़ा गया है। यानी कि अब हितग्राहियों को अंगूठा लगाकर पीओएस के माध्यम से राशन वितरित किया जाएगा। इस मामले को लेकर खाद्य विभाग की प्रमुख सचिव फैज अहमद किदवई ने जानकारी देते हुए कहा की राशन व्यवस्था में किसी भी तरह की गड़बड़ी ना हो इसके लिए नियम बनाए गए हैं। वहीं यह हितग्राहियों का राशन का वितरण पीओएस मशीन के द्वारा ही किया जाएगा।