यूक्रेन से वापस वतन लौटी मध्यप्रदेश की ये बेटी, चेहरे पर दिखी खुशी लेकिन दोस्तों की चिंता में छल्के आंसू

यूक्रेन और रूस में चल रहे युद्ध के बीच अब मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले और खंडवा जिले के माता-पिता ने राहत की सांस ली है। दरअसल ग्वालियर जिले की आफरीन आखरी फ्लाइट्स से अपने वतन लौट आई है, लेकिन उसे अपने दोस्तों की चिंता अब भी सता रही है। वहीं अभी तक कई बच्चे वहां पर फंसे हुए है, जिन्हें भारत सरकार जल्द से जल्द भारत लेकर आयेगी। वहीं अपने बच्चे को सुरक्षित पाकर आफरीन के माता-पिता की खुशी नहीं समा रही है।

अप्रैल 2016 में यूक्रेन गई थी आफरीन

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले के घोसीपुरा में रहने वाली आफरीन अप्रैल 2016 से यूक्रेन में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही है। इसकी फाइनल परीक्षा जून में होने वाली है, लेकिन उससे पहले ही यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध छिड़ गया है। जिसकी वजह से उनके माता-पिता ने आफरीन को जैसे तैसे भारत बुलवा लिया है।

यूक्रेन में फंसे है आफरीन के कई दोस्त

आफरीन जब दिल्ली एयरपोर्ट पहुंची उस समय उसे पता चला था कि यूक्रेन पर रूस ने हमला कर दिया है। इसके बाद वहां जम्मू जबलपुर एक्सप्रेस से गुरुवार रात ग्वालियर पहुंची। इसके बाद परिजनों ने उसे गले लगा लिया और फूलों की माला से जोरदार स्वागत किया। मीडिया के सामने आफरीन ने अपनी बात रखते हुए अपने सुरक्षित आने की खुशी जताई है, लेकिन अब भी उनके कई दोस्त यूक्रेन में फंसे हैं जिनकी चिंता में आंसू नहीं थम रहे है।

आफरीन ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि यूक्रेन में करीब 10 हजार लोग फंसे हैं। यह सभी सुमी स्टेटस यूनिवर्सिटी में पढ़ते हैं। इसमें करीब 500 से 600 स्टूडेंट है। वहीं ग्वालियर से तीन-चार स्टूडेंट वहां पर पढ़ते है। आफरीन आ गई है लेकिन अभी भी उसके कई दोस्त वहां पर फंसे है। वहीं सरकार से जल्द ही उन्हें भारत बुलाने की गुजारिश की है। आफरीन के पिता आरिफ खान भी अपनी बेटी को वापस आने से खुश हैं लेकिन दूसरे बच्चों की चिंता उन्हें भी सता रही है। उनका कहना है कि आफरीन आखरी फ्लाइट से आई उसके बाद सभी फ्लाइट कैंशल हो गई थी।